SB Entertainment Blogs

Breaking

गुरुवार, 25 मार्च 2021

Badal Gayi Aulad

मार्च 25, 2021 0
Badal Gayi Aulad
BADAL GAYI AULAD

माँ की दुआ कभी खाली नहीं जाती। और माँ की दुआ देवताओं से भी टाली नही जाती। चार बच्चों को बर्तन मांज कर भी पाल लेती हैं एक माँ पर बहु आ जाने के बाद उन चार बेटो पर एक माँ पाली नही जाती। अरे भूल गए वो दिन, भूल गए कि जिस माँ ने हमको अपना दूध पिलाया हैं और पिताने उंगली पकड़के चलना सिखाया हैं। लेकिन जब औलाद बड़ी हो जाती हैं तो उन्हीं माँ और बाप को ठोकर मारती हैं तो, पड़ती हैं दिलो पर मार मगर माँ का प्यार नही बदलेगा, आखिर माँ - माँ होती हैं। और बदल गई औलाद मगर माँ बाप नही बदलें। तू बदलेगा सो बार मगर माँ बाप नहीं बदले। बदल गई औलाद मगर माँ बाप नही बदलें।

जिस माँ ने हमको अपना दूध पिलाया हैं और पिताने उंगली पकड़के चलना सिखाया हैं। लेकिन जब वही औलाद माँ बाप को ढोकर मारती हैं तो माँ और बाप के दिल पे केसी चोट पहोचती हैं। फिर भी दोस्तो कहाँ जाता हैं कि माँ का दिल लाजवाब होता हैं। प्यार इसमें बेहिसाब होता हैं, कोई बेटा माँ से प्यार करे या ना करे लेकिन माँ को अपने हर बेटे से प्यार होता हैं। माँ ही मंदिर और माँ ही तीर्थ होती हैं। माँ के चरणों मे यारो जन्नत होती हैं।

और पिता क्या होता हैं?

और पिता हैं जन्नत द्वार, पिता का प्यार नही बदले, बदल गई औलाद मगर माँ बाप नहीं बदले।

"हर रिश्ते में मिलावट देखी,
कच्चे रंगों की सजावट देखी,
लेकिन सालों साल देखा हैं मां को
उसके चेहरे पर ना कभी थकावट देखी,
ना ममता में कभी मिलावट देखी।"

लेकिन यारो आजकल होता क्या हैं फिकरों से चहेरे पे जुरिया पड़ गई उन माँ बाप के, बीवी घर में आई तो हवेलियां बदल गई, और ये बात और थी कि पहेले कमाई माँ को देते थे। अब फ़र्क इतना हैं कि हाथों की हथेलिया बदल गई।


लेकिन एक बात याद रखना माँ बाप के दिल को जो औलाद दुखाति है। सच कहता हूं वो घोर नर्क में जाती हैं। बचपन से, अरे माँ ने बचपन से पाला इतना बड़ा किया, अरे याद कर जब तू बिस्तर गीला कर देता था तो माँ गिले में सो जाती थी और तुजे सूखे में सुलाती। लेकिन आज हँसा हँसा के रुलाने की बात करता हैं। अरे तू उनके दिल को दुखाने की बात करता हैं। अरे नादान जिसके लिए आज मेंने सबकुछ छोड़ दिया अगर आज तू उन माँ बाप को छोड़ने की बात करता हैं। औलाद जो माँ और बाप के दिल को दुखाती हैं सच कहता हूं वो घोर नर्क में जाती हैं। बचपन से हो गए बड़े मगर माँ और बाप नहीं बदले मगर बदल गई औलाद और माँ बाप नहीं बदले।


तू बदले सो बार मगर माँ बाप नहीं बदले, बदल गई औलाद मगर माँ - बाप नहीं बदले।
     
इज्जत भी मिलेगी
दौलत भी मिलेगी
सेवा करो माँ - बाप की 
जन्नत भी मिलेगी



गुरुवार, 24 दिसंबर 2020

पिता ने तोड़ दिया धागा

दिसंबर 24, 2020 0
पिता ने तोड़ दिया धागा
पिता ने तोड़ दिया धागा


एक बार की बात हैं, एक पिता अपने बेटे के साथ पतंग उड़ा रहा था। पतंग आसमान में बादलों को छूती हुई, हवा के साथ लहरा रही थी। थोड़ी देर बाद बेटे ने पिता से पूछा कि पतंग घागे की वजह से ऊपर नहीं जा पा रही है। अगर हम इस धागे को तोड़ देते हैं तो पतंग और ऊपर जा सकती हैं। ये बात सुनने के बाद पिता ने तुरंत ही उस धागे को तोड़ दिया। धागे को तोड़ने के बाद पतंग हवा के साथ साथ ऊपर जाने लगी। लेकिन थोड़ी ही देर बाद वह पतंग लहराकर नीचे आने लगी, और दूर कहीं जाकर जमीन पर जाकर गिर गई। ये देखकर बेटे ने पिता से पूछा की धागा तोड़ देने पर पतंग को और ऊँचाई पर जाना चाहिए था। धागे की वजह से पतंग ज्यादा ऊपर नहीं जा पा रही थी । क्योंकि धागा उसे खिंच रहा था।

लेकिन जब हमने धागा तोड़ दिया तो फिर पतंग नीचे क्यों आकर गिर गई। ऐसा क्यों हुआ यह नीचे क्यों आ गई। इस बात पर उसके पिता ने उसे कहा जिंदगी में हम जिस ऊंचाई पर हैं वहां हमें अक्सर लगता है की कुछ चीजें जिनसे हम बंधे हुए हैं वह हमें जिंदगी की ऊंचाइयों को छूने से रोक रही है। जैसे कि, माता-पिता, अनुशासन या परिवार। इसलिए हमारे मन में ऐसे विचार आते हैं कि हमें उनसे आजाद होना चाहिए। ताकि हम जिंदगी के ऊंचाई को और छु सके। लेकिन जिस प्रकार पतंग धागे से बंधी हुई हैं ठीक उसी प्रकार हम भी इन से बंधे हुए हैं। वास्तव में यही वह धागा होता है जो हमें उस ऊंचाई पर बनाए रखता है।

अगर तुम इस धागे को तोड़ दोगे तो तुम एक बार तो उस पतंग की तरह ऊंचाई पर तो जाओगे लेकिन बाद में उसी पतंग की तरह जमीन पर गिर जाओगे। जब तक वो पतंग घागे से बंधी रहेगी। तब तक वह आसमान की ऊंचाइयों को छूती रहेगी। अगर तुम जिन्दगी में ऊंचाइयों पर बने रहना चाहते हो। तो इन धागो से रिश्ता मत तोड़ना। क्योंकि जीवन में सफलता पूरे परिवार के संतुलन से ही मिलती है। कभी-कभी हमें ऐसा लगता है, कि हमारे माँ बाप हमे आगे बढ़ने से रोक रहे हैं। पर ऐसा बिल्कुल भी नही हैं। हमारे माँ बाप हमे आगे बढ़ने से नहीं रोक रहे हैं। वे तो रोक टोक करके उस धागे को टूटने से बचाना चाहते हैं। क्योंकि वह जानते हैं कि अगर यह धागा टूट गया तो तुम जिंदगी में ऊंचाइयों को कभी भी छू नहीं पाओगे। "माँ" एक ऐसी बैंक है जहां आप हर भावना और दुख जमा कर सकते हो। और "पिता" एक ऐसा क्रेडिट कार्ड है जिसके पास बैलेंस ना होते हुए भी हमारे हर सपने को पूरे करने की कोशिश करता है।

"परिवार" से बड़ा कोई "धन" नहीं। "पिता" से बड़ा कोई "सलाहकार" नहीं। माँ की ममता से बड़ी कोई छांव नहीं। "भाई" से अच्छा कोई "भागीदार" नहीं। और "बहन" से बड़ा कोई "शुभचिंतक" नहीं। "परिवार" के बिना "जीवन" जीवन नहीं होता। दोस्तो जिंदगी में सभी आगे बढ़ना चाहते हैं। इसलिए अपने सपनों से उतना प्यार कीजिए। जितना आप अपने परिवार और माता-पिता से करते है।

सोमवार, 14 दिसंबर 2020

Koi chanda nai re apna gaam chordna

दिसंबर 14, 2020 0
Koi chanda nai re apna gaam chordna

Koi Chanda nai re apna gaam chordna

Bachpan ka jo time tha yaro
Voi tha ghana acha re
Raaje the jo galiyan ke
zindagi ke ishaare naache re
Chah ke bhi na Beth sakte
Un yaara ke beech me
Ya jawani nikaldi jaave
Tukda ki khichan kheech me
Dil chave se, yo chave se 
Ma ke aanchal ne oodhnaa
Koi Chanda nai re apna gaam chordna
Koi Chanda nai re apna gaam chordna
Koi Chanda nai re apna gaam chordna
Koi Chanda nai re apna gaam chordna



School me jaake raazi na the 
Roye college ne chord ke
Yaad boht mene aave hai 
Koi lyaado vo din mod ke
Yaar poorane choot ge saare
Matlabi se sab takraave
Matlabi se sab takraave
Pyaar hi dhundu har jagah
Yo duniya pata na ke chave
duniya pata na ke chave
Koi chanda nai re apna gaam chordna
Koi chanda nai re apna gaam chordna
Koi chanda nai re apna gaam chordna
Koi chanda nai re apna gaam chordna
Boht khush re hoya karda baapu ke kandhe bethke
Rutba aisa baapu ka me chaalya karta aith ke
Saarya ki bas izzat kario
Yo sikhaya meri maayi ne
Yo sikhaya meri maayi ne
Dekhega yo gaam khada
Aisa nam kamana thare Bhai ne
nam kamana thare Bhai ne
Koi chanda nai re apna gaam chordna
Koi chanda nai re apna gaam chordna
Koi chanda nai re apna gaam chordna
Koi chanda nai re apna gaam chordna

IG RAHUL NAME OF SUCCESS

दिसंबर 14, 2020 0
IG RAHUL NAME OF SUCCESS
   
(IG RAHUL)  

IG RAHUL IS LIVE GAMING JURNY


गुजरात राज्य के हालोल तालुका में एक छोटा सा गाँव कोपरेज हैं। जिसमें कांतिलाल केसरीसिंह का पौत्र राहुल सिंह दीपक सिंह रहेता हैं। राहुल का जन्म वडोदरा जिल्ला में 15 दिसम्बर 1998 में हुआ था। राहुल की 3 बहेन हैं ट्विंकल, काजल और उर्मी। 

राहुल की फैमिली में सब चाहते थे कि राहुल इंजीनियरी करे, लेकिन राहुल को तो गेंमिंग और यु ट्युब में अपना नाम बनाना था, वो ही राहुल का सपना था। फिर राहुल ने वही किया और आज लोग राहुल को यु ट्यूब कम्युनिटी में राहुल नही बल्कि IG RAHUL के नाम से ज्यादा जानते हैं।

राहुल को गेंमिंग में इंटरेस्ट तो पहले से ही हैं, लेकिन राहुल जब 6th क्लास में आया तब उसे गेम में और ज्यादा इंटरेस्ट आने लगा। अब राहुल को गेम में इतना इंटरेस्ट आने लगा कि पढ़ाई से ज्यादा गेम ही दिखता था। राहुल ने गेम लेने की ज़िद की। लेकिन उसको पहेले तो गेम नहीं दिलाई। जब गेम नहीं दिलाने पर राहुल को गुस्सा आया और उसने 6th क्लास की एग्जाम नहीं दी, तब उसके पापा ने राहुल को पहेली बार मारा था। फिर उसको गेम तो मिल ही गई थीं। 6th में राहुल की दादी जी ने राहुल को video game दीलिए थी। फिर राहुल बहोत ही अलग अलग गेम खेलता था। जैसे कि, GTA, CS-GO जैसी बडी गेम्स और छोटी गेम्स भी बहोत खेली। उस टाइम राहुल के पास मोबाइल तो था ही नहीं। फिर उसके दादा जी ने राहुल को कॉलेज के 1st साल में मोबाइल दिलाया।

राहुल को गेम के अलावा स्पोर्ट में भी इंटरेस्ट था। 2016 में वॉलीबॉल में राहुल ने स्टेट लेवेल तक खेला था। उसकी तबियत खराब हो जाने की वजह से उस टाइम वो खेल नही पाया था। और फिर उस टाइम से वो किसी भी स्पोर्ट में खेल नही पाया।

राहुल की जर्नी 2017 से स्टार्ट हुई। स्टार्टिंग में राहुल के पास मोबाइल जैसा कुछ नही था। फिर धीरे धीरे Video game मेसे फ़ोन में कन्वर्ट हुए। राहुल का एक फ्रेंड हैं केतन परमार। राहुल जब केतन के घर गया था तब केतन ने राहुल के फ़ोन में PUBG इनस्टॉल कर के दी थी। और केतन ने राहुल से बोला कि चल राहुल PUBG खेलते हैं। तो राहुल ने PUBG खेलना शुरू किया लेकिन राहुल को तो कुछ समझ ही नही आ रहा था गेम में की कैसे खेले PUBG। फिर राहुल ने घर जाके PUBG को डिलेट कर दिया। फिर थोड़े दिन बाद उसने फिर से PUBG इंस्टॉल कर दी।

फिर कुछ दिन बाद राहुल सुरत रहने गया। वहाँ पे राहुल की कझिन सिस्टर (वैष्णवी) और राहुल का भाई (धवल) दोनों ने राहुल के फोन में उस गेम को देखा और उन दोनों को उस गेम में ग्राफिक्स ये सब अच्छा लगा। फिर भी राहुल ने तो उस पर कुछ खास ध्यान नहीं दिया। फिर दीवाली वेकेशन आया सब कझिन भाई बहन इकठा हुए। फिर राहुल की कझिन सिस्टर (वैष्णवी) ने राहुल के मन मे इस गेम को लेकर थोडा और इंटरेस्ट दाल दिया। 

उसकी कझिन सिस्टर (वैष्णवी) ने राहुल को एक सुझाव दिया उसने राहुल को  यू ट्यूब पे Dynamo Gaming चेनल देखने को कहा उस पे अच्छी खासी अर्निंग हो रही थी, इससे कुछ आईडिया मिल जाये। राहुल सोचता हैं कि यू ट्यूब पे अर्निंग अच्छी हो रही हैं, तो राहुल को उसे देखकर थोड़ा आईडिया मिला।

नवंबर 2017 में राहुल ने यु ट्यूब चेनल स्टार्ट किया। यु ट्युब चेनल का सुझाव कझिन बहन ( वैष्णवी) ने दिया था। जब यु ट्युब स्टार्ट किया तब राहुल को तो कुछ समझ नही आ रहा था कि क्या करें, कैसे करे, थोड़े टाइम के लिए तो यु ट्युब चैनल ऐसी ही पड़ी रही थी। लेकिन राहुल को तो गेम में कुछ करके दिखाना था। बाद में थोड़े टाइम के बाद थोड़ा थोड़ा उसको समझ आने लगा कि क्या करना हैं। फिर थोड़े टाइम के बाद गेम में ग्रोथ होने लगा।

राहुल का फ्रेंड दीप जो साबरकांठा में रहता हैं और भावेश गुप्ता जो मुंबई में रहेता हैं उन दोनों ने बहोत सपोर्ट किया हैं राहुल को।

जब इन्डिया में PUBG बैन हुई तब राहुल ने एक गेम हैं जिसका नाम Call of duty mobile उसमें अच्छा ग्रोथ कर लिया था। अब राहुल धीरे धीरे यू ट्यूब पे वीडियो डालता गया।

राहुल की फैमिली राहुल के गेंमिंग के ख़िलाफ़ हैं और आज भी राहुल की फैमिली राहुल के गेंमिंग के ख़िलाफ़ ही हैं।

पंचमहाल जिल्ला के हालोल तालुका में अभी तक कोई गेंमिंग क्रिएटर्स नही हैं। और कोई सक्सेस गेमर नहीं हैं, जो IG RAHUL IS LIVE हैं। जिसे आज लोग राहुल से ज्यादा (IG RAHUL) के नाम से जानते हैं। जिन्हों ने अपना नाम यु ट्युब और गेंमिंग कम्युनिटी में बनाया।

राहुल का सपना हैं कि किसी लेंड टूर्नामेंट में इन्डिया का झंडा लहराना। इसके अलावा राहुल ने अभी हाल ही मैं E-SPORTS ऑर्गनाइजेशन भी बनाया हैं FG E-SPORTS। जिसके जरिये राहुल और उसकी टीम हर गेम में इन्डिया को रिप्रेजेंट करना चाहती हैं।

 INSTAGRAM

Ig rahulyt -instagram

YOUTUBE

IG RAHUL IS LIVE


गुरुवार, 3 दिसंबर 2020

Love Story - तुम सिर्फ मेरी हो

दिसंबर 03, 2020 0
Love Story - तुम सिर्फ मेरी हो
तुम सिर्फ मेरी हो

देव को अभी अभी कुछ ही दिनों पहलें अपनी प्रेमिका से प्यार में धोका मिला था और उस्नें एक अमीर लडके से शादी के लिए हाँ भी कर दिया था। तो देव बहुत ही उदास होकर शाम के समय समुद्र के किनारे बैठा हुआ वो अपनी गर्लफ्रेंड की फोटो को अपने सीने से लगाकर उसे बहुत ही मिस कर रहा था। तभी उसको पीछे से एक चिल्लाने की आवाज़ आयी, तो देव ने जब पीछे मुड़कर देखा तो एक लड़की को कोई लड़का छेड़ रहा था। लेकिन देव ने उसको देखकर अनदेखा कर दिया। क्योंकि वो पहले से ही बहुत परेशान था। और वो ये समझ रहा था कि शायद इस लड़की का भी कोई प्यार का ही चक्कर होगा इसलिए देव ने उनके बीच में बोलना सही नहीं समझा, लेकिन ये क्या हुआ अचानक ही उस लड़के ने उस लड़की को एक थप्पड़ मार दिया और जैसे ही वो लड़की ज़मीन पर गिरने वाली थी, वैसे ही देव जल्दी से खड़ा होकर उस लडकी को संभाल लेता हैं। और जब देव ने उस लड़की का चेहरा देखा तो उस लड़की के होठों से खून निकल रहा था और वो देव से बार बार ये भी कह रही थी की प्लीज़ मुझे इस लडके से बचा लो, मैं इस लड़के को बिलकुल भी नहीं जानती।

इतना सुनते ही देव ने उस लड़के की गिरेबान पकड़ ली और उससे वहां से जाने के लिए कहा तो उस लड़के ने देव से कहां की अगर मैं नहीं गया तो तू क्या कर लेगा। तभी देव ने उसको एक पटकी में ही धूल चटा दी की वो भागता हुआ ही नजर आया। तो देव ने उस लड़की से पूछा कि तुम ठीक तो हो ना और तुम कौन हो और कहा से आई हो तो उस लड़की ने कहा कि मेरा नाम पायल है। और में अपने गांव से भाग कर आई हूं, क्योंकि मेरे चाचा चाची मेरी शादी बहुत ही गंदे आदमी के साथ करवा रहें थें। और मुझे वह लड़का बिल्कुल भी पसंद नहीं हैं। तभी देव ने पूछा कि तुम्हारे माता पिता कहा है इस बात पर पायल रोने लग जाती हैं और रोते हुए देव से कहती हैं, की अब मेरे माता पिता इस दुनियां में नहीं रहें। और इतने दिनों से में अपने चाचा चाची के पास ही रहती थीं लेकिन वो लोग बिल्कुल भी अच्छे नहीं हैं और उन्होंने हमारी पूरी जमीन भी अपने ही नाम करवा ली और तो और मेरे चाचा चाची ने एक बहुत गंदे लड़के से मेरी शादी करवाने के लिए बहुत सारे पैसे भी ले लिए।इसलिए मुझे अपने गांव से भागकर दिल्ली शहर में अपनी एक सहेली की दोस्त के पास आना पड़ा लेकिन आज सुबह उसके माता पिता ने भी मुझे जाने के लिए कह दिया और अब मुझे समझ नही आ रहा की अब में जाऊं तो जाऊं कहां, ये कहकर पायल वही बैठकर रोने लग जाती हैं तभी अचानक देव के हाथों में से उसकी प्रेमिका की फोटो उड़कर समुद्र में ही बह जाती हैं। और फोटो को ढूंढने के लिए देव समुद्र की लहरों में ही कूद गया। देव की ऐसी हरकत देख पायल उसका हाथ पकड़कर अपनी और खेचतीं हैं लेकिन देव उस पर चिल्लाता हुआ कहता हैं।

की तुम दूर हो जाओ मुझसे तुम्हारी ही वजह से मेरी प्रेमिका की फोटो इस समुद्र में बह गई लेकिन अब क्या था। फोटो तो दूर तक बह चुकी थीं और देव खाली हाथ घुटनों के बल समुद्र की लहरों में ही बैठ गया था। उसे उदास देखकर पायल ने सोचा कि उसे वहां से चले जाना चाहिए क्योंकि शायद ये सब कुछ उसी की ही वजह से हुआ हैं, और ये सोचकर पायल वहां से चली गई। तभी थोड़ी देर में देव पानी में से खड़ा होता हैं और पीछे की तरफ मुड़ता है तो वो देखता है की वो पायल नाम कि लड़की कहां चली गई और वैसे भी चारों तरफ अंधेरा ही अंधेरा था ये देखकर देव सोचता हैं की वो गाँव से आई लड़की इतनी रात को कहां जाएगी। तो देव उसी वक्त उसे ढूंढता हुआ आगे की तरफ चला जाता हैं।

और थोड़ी ही दूरी देव को वो लड़की मिल जाती है तभी देव उससे कहता हैं की पायल अगर तुम बुरा न मानों तो प्लीज़ मेरे घर चलो और तुम जब तक चाहो वहां पर रह सकती हो। तो पायल कहती हैं की नहीं, लगता हैं आप पहले ही बहुत ज्यादा परेशान हैं। इसलिए में आपको और परेशान नहीं कर सकती। तो देव ने कहा अरे नहीं मेरी परेशानी ज्यादा बड़ी नहीं हैं। मुझे तो बस मेरी प्रेमिका ने धोखा दिया हैं और वैसे भी अच्छा हुआ क्योंकि वो लड़की पैसों पर बहुत मरती थीं। मगर आपकी परेशानी मुझसे कहीं ज्यादा बड़ी हैं। और इस समय आपके माता पिता भी आपके साथ नहीं हैं और आपके चाचा चाची ने भी तो आपको धोखा दिया हैं। लेकिन तुम अब चिंता मत करो मेरे घर में मेरी माँ और मेरी बहन हैं वो तुम्हारा बहुत ध्यान रखेगी और बाकी सब मै संभाल लूंगा। तभी पायल देव की आंखों में देखती हैं और कहती है कि आप कितने अच्छे है। आप अपना इतना बड़ा दुःख छुपाकर मेरी सहायता कर रहे हैं।

लेकिन मेरी दिल से दुआ हैं की आपको आपकी प्रेमिका से भी अच्छी लड़की जरूर मिलेगी। इतना सुनते ही देव की आंखों में दर्द वाले आंसू आ जाते हैं। और वो अपने आंसू ओ को छुपाते हुए पायल को अपने घर चलने को कहता हैं। तो पायल देव के घर पहुंच जाती हैं तभी देव की माँ पूछती है, की देव ये कौन हैं ? तो देव पायल की सारी बात अपनी माँ को बता देता हैं। सारी बात सुनते ही देव की माँ की आंखे भी नम हो जाती हैं। और पायल भी रोने लगे जाती हैं तभी देव की माँ पायल को अपने सीने से लगाकर कहती हैं, की पायल बेटी तुम चिंता मत करो अब तुम्हारी शादी की सारी जिम्मेदारी मेरी हैं। तभी अचानक देव की बहन मुस्कुराती हुई ये कह देती हैं की माँ क्यों न हम पायल की शादी देव भइया से करवा दे, वैसे भी भइया की गर्लफ्रेंड ने उसे इतना बड़ा धोखा दे दिया इतना सुनते ही देव अपने कमरे में चला जाता हैं। 

तभी देव की माँ पायल से कहती हैं की पायल बेटी मेरी बेटी की बात का जरा भी बुरा मत मानना ये दिल की बहुत साफ हैं और इसके मुंह में जो बात आती हैं वो ये फटाकसे कह देती हैं। तो पायल ने कहा कि नहि आंटी जी मुझे बिल्कुल भी बुरा नहीं लगा। तभी पायल को देव के घर में रहते हुए एक महीने से भी ऊपर हो गया और पायल उनके घर में एक दम घुल मिल गई थी वैसे देव के पास एक कार थी और उसने अपनी कार को टैक्सी बना रखी थी। तभी एक दिन पायल ने राधे की माँ से कहा कि आंटी जी मै आज तक कभी दिल्ही नहीं घूमी इसलिए आप देव जी से कहिए ना की वो मुझे दिल्ही घुमाकर लाए, तो देव की माँ ने अपने बेटे को आवाज दी तो देव अपने कमरे से बाहर आकर कहता हैं, हाँ कहो माँ। तो उसकी माँ ने कहा कि, देव आज तू पायल को पूरा दिल्ही घुमाकर लाएगा तो देव ने कहा कि माँ मेरे पास बिल्कुल भी वक्त नहीं हैं इस समय काम भी ज्यादा हैं। लेकिन उसकी माँ नहीं मानी और उससे दुबारा कहा कि नहीं तू आज सारे काम छोड़ और पायल को घुमाकर ला। तभी पायल ने कहा कि आंटी जी कोई बात नहीं अगर देव जी के पास आज समय नहीं हैं तो में फिर किसी और दिन इसके साथ घूम लुंगी। इतना कहकर पायल थोड़ी उदास हो जाती हैं। तब देव ने जब पायल का चेहरा देखा तो उसका चेहरा बहुत उदास था। तभी वो अपनी माँ से कहता हैं की माँ ठीक हैं में आज छुट्टी करके पायल को दिल्ली घुमा लाऊंगा। इतना सुनते ही सपना खूशी से उछल पड़ती हैं और देव की माँ से सीने से लिपट जाती हैं।  और कुछ ही देर में वो दोनों दिल्ही घूमने निकल जाते हैं।

तभी देव पायल को दिल्ही घुमाने ले जाता हैं। तो देव की कार में पीछे ना बैठकर पायल उसकी बगल वाली सीट पर ही बैठ जाती हैं। लेकिन ये क्या पायल देव पर थोड़ा गुस्सा होकर कहती हैं, की देव जी क्या मै पागल हूं जो की तुमसे यूँ ही बक बक कर रही हूं तुम कुछ तो बोलो यार। ये सुनते ही देव कहता हैं की पायल तुम्हे क्या हो गया । क्या मैंने सही सुना की तुमनें मुझे यार कहकर पुकारा, तो पायल थोड़ा सा अटकते हुए बोली की नहीं में तुम्हे यार क्यों बोलूंगी। तभी पायल अपने मन से बात करती हुईं बोलती हैं, अरे पायल ये तो बहुत ही बोरिंग हैं लगता हैं आज तो तू पूरी ही बोर हो जाएगी। हे भगवान प्लीज़ कुछ करो, तभी देव कहता हैं अब इसमें भगवान कहा से बीच में आ गया ये कहकर देव थोड़ा मुस्कुरा देता हैं। तो पायल ने पूछा, क्या तुमने कुछ सुना क्या ? तो देव ने कहा कि, तुम अगर अपने मन में भी इतना जोर से बोलोगी तो कोई भी सुन लेगा।

इस बात पर दोनों ही हँसने लग जाते है ओर इस तरह दोनों ही एक दूसरे से सवाल करते हैं तभी देव ने पायल से पूछा कि अच्छा पायल क्या तुमने कभी किसी से प्यार किया है। तो पायल ने कहा कि हां देव जी मैं अपने माता-पिता से बहुत प्यार करती हूं और हमेशा करती रहूंगी। तो देव ने कहा कि अरे नहीं मैं तो तुमसे यह पूछ रहा हूं कि तुमने कभी किसी लड़के से प्यार किया है। तो पायल का जवाब सुनकर देव भी हैरान हो गया। पायल ने कहा कि देव जी अगर आज तक मेरे मन में किसी भी लड़के के लिए थोड़ी सी भी इज्जत या सम्मान है तो वह आप हैं, देव जी क्योकिं आज मैं सुरक्षित हूँ तो वो हूँ आपकी वजह से, अगर आपने उस दिन मुजे उस लड़के से बचाया ना होता तो शायद आज में पता नहीं कहां होती या न जाने वह लड़का मेरे साथ क्या करता। लेकिन आपने तो मुझे उससे बचाया भी और अपने घर में मुजे रहने की जगह भी दी इसलिए मेरे लिए तो आप ही मेरे भगवान है। इतना कहकर सपना चुप हो जाती है।

तो राधे एक जगह पार्क के पास गाड़ी रोक देता है और पायल से कहता है, कि पायल चलो इस पार्क में चलते हैं। यह दिल्ली का सबसे बड़ा पार्क है, तो पायल खुश होकर गाड़ी से उतर जाती है और दोनों ही उस पार्क में चले जाते हैं। लेकिन ये क्या वहाँ तो चारों तरफ सिर्फ कपल्स ही बैठे हुए थें। तो पायल ने मुस्कुरातें हुए देव जी से पूछा की देव जी ये आप मुझे कहा लेकर आ गए। तो देव ने पायल से कहा कि पायल मुझे नहीं पता था कि यहाँ पर प्यार करने वाले ही आते हैं। तब पायल ने कहा कि चलो कोई बात नहीं हम थोड़ी देर यहाँ पर बैठकर फिर कहीं और चलेंगे और वह दोनों वहाँ पर बैठ गए। लेकिन वहाँ बैठना इतना आसान नहीं था। वहाँ सभी लड़के और लड़कियाँ एक दूसरे से किसिंग कर रहे थे। ये देखकर पायल देव का हाथ पकड़ लेती हैं। और मुस्कुरातें हुए कहती हैं कि देव जी शायद अब हमें यहाँ से चलना चाहिए। लेकिन देव को बड़ा ही अजीब सा ही लगा, क्योकि अभी तक पायल ने देव का हाथ पकड़ रखा था। और इस हरकत से देव का दिल जोर जोर से धड़क रहा था। लेकिन शायद कहीं न कहीं देव को अच्छा लग रहा था।

तो देव ने धीरे से पायल से कहा कि पायल प्लीज क्या तुम मेरा हाथ छोड़ दोगी तो पायल ने जल्दी से देव का हाथ छोड़ दिया और दोनों ही कहीं और घूमने चले गए। फिर देव पायल को दिल्ली में कई जगह घुमाने ले गया। और बाद में देव उसे एक बहुत बड़े मॉल में लेकर गया। जहाँ सपना ने बहुत सारी शॉपिंग भी करी लेकिन अचानक ही उस मॉल में पायल को उसका एक गाँव का आदमी सामने से आता हुआ नजर आया। तो जैसे ही वह आदमी उसे देखने वाला था वैसे ही पायल देव की बाहों में लिपट गई तो देव एकदम सन्न रह गया। और पायल से पूछा कि पायल यह तुम क्या कर रही हो। तो पायल ने धीरे से कहा कि देव जी मुझसे ऐसे ही चिपके रहे क्योंकि मेरे पीछे से मेरे गाँव का एक आदमी आ रहा है। और वह आदमी बहुत ही खतरनाक है तभी देव ने कहा कि तुम डरो मत पायल मैं हूं ना मेरे होते हुए कोई तुम्हें टच भी नहीं कर सकता। तो सपना ने कहा कि नहीं देव जी आपने वैसे ही मेरे लिए इतना कुछ किया है और मैं आपको और परेशान नहीं कर सकती। तो आप चुपचाप से चिपके रहिए। तभी थोड़ी देर में वह आदमी वहाँ से चला जाता है। और पायल देव से दूर हो जाती है। लेकिन देव को ना जाने क्या हो गया था वह तो जैसे पायल की बाँहो से निकलना ही नहीं चाहता था।

तभी देव और पायल बाहर आ जाते हैं। पायल को आइसक्रीम वाला नजर आ जाता है। तो अचानक चिल्ला पड़ती है देव उसे देख कर डर जाता है और पूछता है कि क्या हुआ तो पायल ने कहा कि देव जी मुझे आइसक्रीम खानी है प्लीज, तो देव उसके लिए एक आइसक्रीम लेकर आ गया और वह दोनों गाड़ी में बैठ गए तभी देव ने पायल को आइसक्रीम दे दी और गाड़ी को स्टार्ट कर दी, तो पायल ने कहा कि आप एक ही आइसक्रीम क्यों लाए हैं तो देव ने कहा कि नहीं मैं आइसक्रीम नहीं खाता तभी पायल ने कहा कि आप नहीं खाएंगे तो मैं भी नहीं खाऊंगी। तो देव ने फिर से कहा तुम खा लो पायल मैं नहीं खा पाऊंगा, लेकिन पायल ने तो जबरदस्ती देव के मुँह में आइसक्रीम डाल दी। लेकिन इस बात पर देव को बहुत बुरा लगा और उसने आइसक्रीम पकड़ कर बाहर फेेंक दी, तो पायल रोने लग गई तब देव ने गाड़ी चलाई और गाड़ी को समुद्र के पास ले गया और फिर वह बाहर निकल कर वहीं पानी की लहरों के पास बैठ गया। तो पायल भी उसके पास आ गई और उसने उसके कंधे पर हाथ रख कर कहा कि, मुझे माफ कर दो देव जी। लेकिन जब आपकी प्रेमिका ने आपको इतना बड़ा धोखा दे दिया तो आप उसे भूल क्यों नहीं जाते। आप तो इतने अच्छे हैं आपको तो कोई भी अच्छी लड़की मिल जाएगी। तभी देव खड़ा हो जाता है और अपने आँसुओं को पोछते हुए पायल से गुस्से में ये कहता हैं कि, मुझे किसी भी लड़की से प्यार नहीं करना हर लड़की सिर्फ पैसों पर ही मरती है तो पायलने कहा कि देव जी आपने तो हर लड़की को एक ही तराजू में तोल दिया। इसका मतलब आप मुझे भी ऐसे ही लड़की समझते होंगे, लेकिन इसमें आपकी कोई गलती नहीं है सारी गलती आपकी प्रेमिका की है जिसकी गलती की वजह से आपने हर लड़की को एक जैसा ही समझ लिया।

इस बात पर देव ने गुस्से गुस्से में पायल से कहा कि तुम्हे मेरी प्रेमिका के बारे में कुछ भी कहने की कोई भी जरूरत नहीं है। और प्लीज अभी तुम मुझे अकेला छोड़ कर घर चली जाओ वैसे भी घर यहाँ से ज्यादा दूर नहीं है। इतना कहकर देव वही पानी की लहरों के पास उदास होकर बैठ जाता है। और पायल भी आंखों में आंसू लिए घर की तरफ चली जाती है और थोड़ी देर में देव भी घर पहुँच जाता है देव के घर पहुँचते ही देव की माँ पूछती है कि बेटा पायल कहाँ पर रह गई। तो देव नें घभारतें हुए पूछा कि आपका क्या मतलब है माँ वह तो 1 घंटे पहले ही घर पर आ गई होगी तभी देव की माँ ने आंखों में आंसू लिए कहा कि बेटा तू जल्दी उसे ढूंढ वो अभी तक घर नहीं आई तो देव भागता हुआ वही समुद्र के पास गया। लेकिन वहाँ पर भी वो नहीं थी, फिर देव ने पायल को घर के आस-पास भी ढूंढ लिया मगर हो उसे कहीं पर भी नहीं मिली। अब देेेव बहुत ही दुखी हो रहा था और खाली हाथ ही वह घर चला गया। घर पर पहुंचते ही देव अपनी माँँ के आगे रोने लग गया और रोते हुए कहा कि माँ पायल कहीं नहीं मिली और यह सब मेरी वजह से हुआ है। तेरी वजह से वो कैसे ?

तो देव ने पायल ओर उसके बीच हुई सारी बात बता देता है और साथ में यह भी कहता है कि माँ न जाने मुझे पायल से कब प्यार हो गया। और आज वह भी मुझे छोड़ कर चली गई मेरा नसीब ही खराब है, माँ मैंने तो बस थोड़ा गुस्से में पायल को उल्टा सीधा कह दिया था। मुझे क्या पता था, कि इतनी सी बात पर वो मुझे छोड़कर चली जायेगी और आज के बाद माँ मैं किसी भी लड़की से कभी भी प्यार नहीं करूंगा। क्योंकि हर लड़की मुझे धोखा देकर चली जाती है। यह कहकर देव आँखों में आंसू लिए छत पर चला जाता है। और छत पर जाकर तारों से भरे आसमान के नीचे वह पायल को याद करता हुआ बहुत रोता है। तभी अचानक पीछे से पायल आ जाती है और उससे धीरे से आवाज मारती है देव जी, तभी देव उसे देख कर भाग कर उसकी बाँहो में लिपट जाता है। और उससे पूछता है कि तुम कहाँ चली गई थी पायल, तो पायल ने कहा कि देव जी मुझे तो आपसे तभी प्यार हो गया था, जब आपने मुझे उस गुंडे से बचा था। और यह बात मैंने आपकी बहन को भी बता दी थीं और मैं कहीं भी नहीं गई थी मैं तो घर में ही थी बस मैं तो यह जाना चाहती थी कि आप भी मुझसे प्यार करते हैं या नहीं। तो देव ने उससे कहा कि पायल मुझे तुमसे बेहद प्यार हो गया है तुम मुझे कभी छोड़कर मत जाना। तो पायल देव के सीने से लिपटकर कहती हैं कि अब तो मैं आपको मरने के बाद भी नहीं छोडूंगी। इतना सुनते ही देव पायल के होठों को चूमने लग जाता है और दोनों ही एक दूसरे के प्यार में पूरी तरह डूब जाते हैं और कुछ ही दिनों में दोनों की शादी भी हो जाती है।

सोमवार, 30 नवंबर 2020

Constable - Police Recruitment 2020

नवंबर 30, 2020 0
Constable - Police Recruitment 2020
Police Recruitment 2020

8,415 Posts - Constable - Police Recruitment 2020 (12th Pass Job) - Last Date 14 December

Total No. Posts : 8,415 Posts

Last Date 14 December

Organization : Bihar Police

Type Of Employment : Bihar Government Jobs

Total Vacancies : 8,415 Posts

Location : Bihar

Post Name : Constable

Official Website : www.csbc.bih.nic.in

Applying Mode : Online

Starting Date : 13.11.2020

Last Date : 14.12.2020

Detail Of Vacancies :

Constable : 8,415 Posts

Qualification Detail : 

The candidates must have passed 10 + 2 or the equivalent from a recognized board for Police Recruitment 2020.

Required Age Limit

Minimum Age : 18 years
Maximum Age : 25 years

Mode Of Selection :

  ● Written Test
  ● Physical Test
  ● Interview

Steps to apply for online mode :

  ● Log on to the official website www.csbc.bih.nic.in

  ● Candidates can apply through online

  ● Candidates should ensure that they fulfill the eligibility criteria as per Police Recruitment 2020
  
  ● Pay the application fee, if needed.

  ● Click on the submit button for submission of the application.

  ● Take a print out the application for future use

Important Instructions :

Before Applying, Candidates are advised to go through the instructions given in the notice of examination very carefully.

Focusing Dates : 

Application submission Dates : 13.11.2020 to 14.12.2020

रविवार, 29 नवंबर 2020

BOB Recruitment 2020

नवंबर 29, 2020 0
BOB Recruitment 2020
BOB RECRUITMENT 2020



Bank Of Baroda - BOB Recruitment 2020 ( Defence Banking Advisor ) - Last Date 09 December

Total No. Posts - 13 Posts

Last Date 09 December

Organization : Bank Of Baroda

Type Of Employment : Bank Jobs

Total Vacancies : 13 Posts

Location : New Delhi

Post Name : Defense Banking Advisor

Official Website : www.bankofbaroda.in

Applying Mode : Online

Starting Date : 19.11.2020

Last Date : 09.12.2020

DETAILS OF VACANCIES

   ● Defence banking advisor
   ● Deputy defence banking advisor

Qualification Detail :

  ● The candidates must have passed the graduate / posts graduate or the equivalent from a recognized board for BOB Recruitment 2020.

Required Age Limit :

  ● Minimum Age : 25 years
  ● Maximum Age : 62 years

Salary Package :

  ● Refer to official Notification

Mode Of Selection :

  ● Short list
  ● Group discussion
  ● Interview

Step to apply for online mode :

  ● Log on to the official website www.bankofbaroda.in

  ● Candidates can apply online

  ● Candidates should ensure that they fulfill the eligibility criteria as per BOB Recruitment 2020

  ● Pay the application fee, if needed.

  ● Click on this submit button for submission of the application.

  ● Take a print out the application for future use

Important instructions :

Before applying, candidates are advised to go through the instructions given in the notice of examination very carefully.

Focusing Dates :

Application submission Dates : 19.11.2020 to 09.12.2020